dhoni run out
dhoni run out

भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच खेला गया वर्ल्ड कप का पहला सेमीफ़ाइनल मुक़ाबला उतार-चढ़ाव भरा रहा था। एक समय ऐसा लग रहा था जैसे भारतीय टीम 150 रन भी नहीं बना पाएगी लेकिन तभी रवीन्द्र जडेजा और एमएस धोनी ने ऐसी साझेदारी की कि भारत मैच में वापसी करने में सफल रहा।

ms dhoni run out
ms dhoni run out

लेकिन जडेजा और एमएस धोनी में कोई भी आखिर तक क्रीज़ पर टिका नहीं रह सका और भारत को टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा। जडेजा बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में केन विलियमसन को कैच थमा बैठे थे वहीं धोनी मार्टिन गप्टिल के हाथों रन आउट हो गए थे। अब मार्टिन गप्टिल ने उस रन आउट को लेकर एक बड़ा बयान दिया है।

धोनी ने जैसे ही लॉकी फर्ग्यूसन को छक्का मारा तो मैदान में मौजूद भारतीय फैंस की उम्मीद चरम पर जा पहुंची थीं कि जब तक एमएस धोनी क्रीज़ पर हैं, भारत को कोई नहीं हरा सकता। लेकिन तभी मार्टिन गप्टिल का एक ऐसा थ्रो आया जिसे आप तुक्का भी कह सकते हैं और धोनी की बुरी किस्मत भी।

martin guptill
martin guptill

गप्टिल ने उस रन आउट के बारे में कहा है कि,”मुझे ऐसा लग नहीं रहा था कि बॉल मेरी तरफ आ रही है, मैंने जल्द से जल्द बॉल तक पहुँचने का प्रयास किया। मुझे 3 के बजाय 1 या मुश्किल से डेढ़ स्टम्प ही दिख रहा था इसलिए इसे मेरी किस्मत ही समझें कि मैं डायरेक्ट हिट मारने में सफल रहा।”

यही रन आउट भारत की हार की बड़ी वजह बना था, धोनी विकेट्स के बीच कितने तेज दौड़ते हैं यह हम सालों से देखते आ रहे हैं, इसलिए उन्हें रनआउट करना बहुत मुश्किल होता है।