ajinkya rahane

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एडिलेड के मैदान पर खेला जा रहा 2018 टेस्ट सीरीज़ का पहला मैच। चौथे दिन का खेल ख़त्म होने तक भारत ड्राइविंग सीट पर विराजमान है। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि जीत अब भारतीय क्रिकेट टीम से ज्यादा दूर नहीं।

हालाँकि पहली पारी में भारतीय बल्लेबाजों के ख़राब शॉट्स के चलते पूरी टीम 250 के स्कोर पर धराशायी हो चली थी। लेकिन गेंदबाजों के सधे हुए प्रदर्शन के कारण भारत पूरे पंद्रह साल बाद एडिलेड के मैदान पर जीत दर्ज करने की दहलीज़ पर खड़ा है।

यह भी पढ़ें: पहले दिन आख़िर क्यों धराशायी हो गए भारतीय बल्लेबाज

ऑस्ट्रेलिया बैकफुट पर

चौथे दिन का खेल ख़त्म होने तक मेज़बान टीम 104 के स्कोर पर चार विकेट गंवा चुकी है। कंगारूओं को अभी भी मैच जीतने के लिए 219 रन की दरकार है। दूसरी तरफ़ भारत को जीतने के लिए सिर्फ छः विकेट की ज़रूरत है।

shaun marsh

लगातार अंतराल पर विकेट गिरने के कारण ऑस्ट्रेलिया इस मैच में पिछड़ता जा रहा है। रविचंद्रन अश्विन और मोहम्मद शमी क्रमशः दो-दो विकेट चटका चुके हैं। लेकिन भारत को अभी संभल कर रहने की ज़रूरत है, क्योंकि शॉन मार्श को ऐसे मैचों से अपनी टीम को बाहर निकाल ले जाने में महारथ हासिल है।

और पढें – बांग्लादेश के खिलाफ़ पहले एकदिवसीय क्रिकेट मैच में 200 रन भी नहीं बना सकी वेस्ट-इंडीज़

एक छोर पर शॉन मार्श , 92 गेंद में 31 रन की धीमी पारी खेल रहे हैं। दूसरी तरफ़ ट्रेविस हेड भी क्रीज़ पर जम चुके हैं। इसलिए भारत को सावधान रहने की ज़रूरत है।

रहाणे और पुजारा के अर्धशतक

cheteshwar pujara

तीसरे दिन का खेल ख़त्म होने तक भारत ने 151 के स्कोर पर केवल तीन विकेट गंवाई। चौथा दिन शुरू हुआ और पुजारा और रहाणे ने बेहतरीन अर्धशतकीय पारियां खेलीं।

ऐसा लग रहा था मानो भारत आसानी से 370-380 के स्कोर को पार कर जायेगा। लेकिन भारत के आख़िरी पांच बल्लेबाज केवल पच्चीस रन के भीतर आउट हो पवेलियन लौट गए। इससे भारत केवल 307 रन के स्कोर पर ही सिमट गया।

और पढें – गौतम गंभीर ने इस भारतीय कप्तान को बताया अपना पसंदीदा कप्तान

1 COMMENT

Comments are closed.