भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट सीरीज़ का दूसरा मैच चौदह दिसंबर से शुरू हो रहा है। सीरीज़ का दूसरा टेस्ट मैच, पर्थ के वाका क्रिकेट ग्राउंड पर खेला जायेगा। पर्थ की पिच पर इतनी घास है कि मैदान और पिच में अंतर करना बेहद ही मुश्किल हो रहा है।

पिच क्यूरेटर का कहना है कि,

हमसे कहा गया है कि पिच को तेज़ गेंदबाज़ी के अनुकूल बनाया जाये। इसलिए हमारा प्रयास यही है कि पिच को जितना तेज़ गेंदबाज़ी के लिए मददगार बनाया जा सके, उतना बनाने में हम सफल हो।

पहले मैच में ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के लिए रविचंद्रन अश्विन को खेल पाना थोड़ा मुश्किल हो रहा था। पिच को तेज़ गेंदबाजों के अनुकूल बनाने का दूसरा कारण मिचेल स्टार्क हो सकते हैं। हालाँकि स्टार्क ने मैच में पांच विकेट जरुर चटकाए, लेकिन वो भारतीय बल्लेबाजों के लिए इतने घातक साबित नहीं हुए, जिसके लिए वो जाने जाते हैं।

और पढें – भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया दूसरा टेस्ट: पहले दिन का खेल ख़त्म होने तक ऑस्ट्रेलिया 6 विकेट के नुकसान पर 277

bhuvneshwar kumar

संभव है कि भारत इस मैच में पांच रेग्युलर गेंदबाजों के साथ उतर सकता है। चार तेज़ गेंदबाज और एक स्पिनर। पिच रिपोर्ट के अनुसार, भुवनेश्वर कुमार और उमेश यादव की प्लेयिंग इलेवन में वापसी हो सकती है।

लेकिन इस बीच एक खिलाड़ी है, जिसकी पर्थ पर भारत को कमी खलने वाली है। वह है हार्दिक पंड्या। इस स्थिति में पंड्या तुरुप का इक्का साबित हो सकते थे।

और पढें – एक बार दो लोगों के अंदर आने के बाद, यह कठिन काम था – टिम साउथी

1 COMMENT

Comments are closed.